ग्वालियर से भिंड तक रही पुलिस की पैनी नजर-निगरानी

ग्वालियर. 2 अप्रैल को एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ भड़की हिंसा का सर्वाधिक असर ग्वालियर चंबल संभाग में हुआ था। जमकर तोड़फोड हुई थी और जिन लोगों की जान गई थी उसमें ग्वालियर चंबल संभाग में जान गंवाने वालों की संख्या सबसे ज्यादा थी। भिंड में 4 लोगों की जान गई थी, मुरैना भी अछूता नहीं रहा था और ग्वालियर में भी हिंसा का तांडव खूब देखने को मिला था।
सभी सरकारी सेवकों के अवकाश रद्द कर दिए गए
ग्वालियर-भिंड में धारा 144 लागू है चार लोगों को एक साथ खड़े नहीं होने दिया जा रहा है। संवेदनशील इलाकों में पुलिस के आला अफसर लगातार पहुंच रहे हैं। पुलिस का पहरा शहरी क्षेत्र के साथ गांव गांव में भी पुलिस की दस्तक आज मंगलवार सुबह से जारी है। ग्वालियर में तो सभी सरकारी सेवकों के अवकाश रद्द कर दिए गए है और सभी से कहा गया है कि वह अपने क्षेत्रों में रहें और कोई भी सूचना उन्हें मिले तो आला अफसरों की जानकारी में तुरंत लाएं। ग्वालियर में पुलिस कप्तान नवनीत भसीन आज सुबह से पूरे जिले की खबर लेते रहे और खुद भी कई इलाकों में पुलिस फोर्स के साथ निरीक्षण के लिए पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *