इनकम टैक्स का छापा-सीएम कमलनाथ के ओएसडी के निवास पर मिले 9 करोड़ रूपये

नई दिल्ली. मप्र के सीएम कमलनाथ के ओएसडी के घर पर इनकम टैक्स की छापेमारी की कार्यवाही जारी है छापेमारी में अब तक की कार्यवाही 9 करोड़ नगद कैश बरामद किये हैं। ऐसा बताया जा रहा है शनिवार और रविवार दरमियानी रात 3 बजे ही इनकम टैक्स की टीम ने कमलनाथ के निजी सचिव (ओएसडी) प्रवीण कक्कड़ के घर पर छापेमारी की। बताया जा रहा है कि दिल्ली से गयी इनकम टैक्स की टीम ने इन्दौर पहुंचकर प्रवीण कक्कड़ के घर पर छानबीन कर रही हैं। अब तक तलाशी में अब तक 9 करोड़ रूपये बरामद किये गये हैं। अभी लगभग 35 ठिकानों पर आईटी की कार्यवाही जारी हैं।

टीम अपने साथ सीआरपीएफ को लेकर पहुंची
अब तक मिली सूचना में बताया जा रहा है कि छापेमारी में इनकम टैक्स के 15 सदस्य मिलकर प्रवीण के घर की तलाशी ले रहे हैं, तलाशी में कोई परेशानी न हो इसे देखते हुए आयकर विभाग की टीम अपने साथ सीआरपीएफ को लेकरपहुंची है। ऐसा बताया जा रहा है मिक सीआरपीएफ की टीम ने सीएम कमलनाथ के इन्दौर स्थित घर को चारों ओर से घेर लिया है और आयकर विभाग की टीम अन्दर तलाशी ले रही हैं।

रात 3 बजे 15 से अधिक अधिकारियों की टीम ने  की 
शनिवार और रविवार दरमियानी रात 3 बजे 15 से अधिक अधिकारियों की टीम ने स्कीम नम्बर 74 स्थित निवास पर छापेमारी की गयी है, इसके साथ ही विजयनगर स्थित शोरूम समेत अन्य स्थानों पर भी जांच की जा रही है, प्रवीण जब पुलिस अधिकारी थे तभी उनके खिलाफ कई मामले सामने आये थे, ऐसा बताया जा रहा है कि सर्विस के दौरान ही कई जांच चल रही थी।

प्रवीण कक्कड़ के परिवार के लोग घबरा गये थे
जब आयकर विभाग की टीम देर रात पहुंची तो प्रवीण कक्कड़ के परिवार के लोग घबरा गये थे जब उन्हें पुख्ता हो गया था कि यह सभी आयकर के अधिकारी हैं तो उन्होंने जांच में सहयोग किया गया है। प्रवीण कक्कड़ को पुलिस विभाग में रहने के दौरान राष्ट्रपति पुरूस्कार से भी सम्मानित किया गया था, इसके बाद उन्होंने 2004 में अपने नौकरी छोड़ दी और कांग्रेस नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के ओएसडी बन गये, कहा जाता है कि 2015 में कांतिलाल भूरिया को रतलाम झाबुआ सीट पर मिली जीत प्रवीण कक्कड़ द्वारा बनाई रणनीति से मिली थी, दिसम्बर 2018 में वह सीएम कमलनाथ के ओएसडी बनाये गये थे।

50 जगहों पर छापेमारी की है जिसमें 300 अधिकारी जुटे

गौरतलब है कि प्रवीण जब पुलिस अधिकारी थे तब भी उनके खिलाफ कई मामले सामने आए थे। प्रवीण कक्कड़ सीएम कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और कांतिलाल भूरिया के काफी करीबी माने जाते रहे हैं। कहा जा रहा है कि आयकर विभाग मध्य प्रदेश, गोवा और दिल्ली में करीब 50 जगहों पर छापेमारी की है जिसमें 300 अधिकारी जुटे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *