कॉलपी ब्रिज के पास तोड़ी बहुमंजिला निर्माणधीन इमारत, नाका चन्द्रवदनी से वापिस लौटा जिला प्रशासन

ग्वालियर. माफिया मुक्त ग्वालियर अभियान के तहत जिला प्रशासन ने शहर में तीन अलग अलग स्थानों पर बेजा निर्माणों पर शिंकंजा कस दिया है। कार्यवाही के दायरे में मुरार में मार्बल शॉप, झांसी रोड़ पर शराब दुकान समेत दर्जन भर दुकानें और पड़ाव पर बहुमंजिला इमारत को शामिलकिया गया है। प्रशासनिक अमले के साथ मौके पर पहुंचे निगम अमले ने पूरे दलबल के साथ अवैघ निर्माणों को ढहाना शुरू कर दिया हे।
मुरार में कालपी ब्रिज के समीनगर निगम से सांठगांठ कर एक बार फिर से बनाये जा रहे राठौर मार्बल के अवैध निर्माण को ढहाया जा रहा है। खास बात यह है कि इससे पहले एनजीटी के आदेश पर कार्यवाही के दौरान भी यहां कार्यवाही की गयी थी लेकिन बाद में निगम अमले से मिली भगत के चलते निर्माण मंजूरी हासिल होने का दावा किया जा रहा है। इस दौरान अब शासन के दबाव के चलते आज यहां मंजूरी के अतिरिक्त निर्माण के नाम पर बड़ी तुड़ाई की जा रही हैं।
छात्रों की सुनवाई
इसके अलावा झांसी रोड़ पर नाका चन्द्रबदनी चौराहे के समीप शराब की दुकान सहित पूरे मार्केट को तोड़ने की तैयारी हो चुकी है। एसडीएम अनिल बनवारिया के अनुसार मौके पर बनी दुकानों को सरकारी जमीन पर अवैध रूप से निर्मित किया गया है। यह जमीन सांइस कॉलेज की बताई जा रही है, जिसको लेकर कॉलेज के छात्र कई वर्षो से आन्दोलन करते रहे हैं। उधर पड़ाव पुल के नजदीक बहुमंजिला इमारत पर कल शुरू की गयी कार्यवाही आज भी जारी रही हैं। जमीन मालिक दिलीप शर्मा और संजय शर्मा ने मौके पर जमीन के कागजात और सुप्रीम कोर्ट के दस्तावेज दिखाये जिसमें आदेश था कि इस जगह पर न तो तुड़ाई कर सकते और न ही निर्माण कार्य। इस वजह से जिला प्रशासन को वापिस लौटना पड़ा
मेरे पास सभी परमिशन है अतिक्रमण तो सामने हैं
कॉलपी ब्रिज स्थित राठौर मार्बल कॉम्पलेक्स के मालिक गोवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि जिला प्रशासन ने अतिक्रमण मानकर तुड़ाई की है जो कि सरासर गलत हैं मेरे पास सभी परमिशन है जैसे कि टीएण्डसीपी, पीएचई, बिजली, नगरनिगम, डायवर्सन, प्रदूषण और एमएच आदि की सभी एनओसी और परमिशन है इसके बाद भी मेरा करोडों रूपयों का नुकसान कर दिया। अतिक्रमण हमारे ठीक सामने है जो कि पुल की बाउण्ड्रीवाल तोड़कर रास्ता बना लिया यह जिला प्रशासन को दिखाई नहीं देता।
3 साल पहले भी हुई थी कार्रवाई
मार्बल विक्रेता पर 3 साल पहले भी नगर निगम द्वारा कार्रवाई की गई थी तब इसने सरकारी जमीन पर कब्जा करते हुए यहां टीन शेड लगा लिया था जिसे उस वक्त तोड़ दिया गया था लेकिन बाद में इसने इसी स्थान पर पक्का निर्माण कर शासकीय भूमि पर बड़ा कारोबार फैला लिया। निगम की मानें तो इसे कई बार अतिक्रमण हटाने का नोटिस भी दिया गया था लेकिन इसके द्वारा बजाए बेजा कब्जा हटाने के और अधिक अतिक्रमण कर लिया जिस पर आज इस बुमंजिला अवैध निर्माण पर बुल्डोंजर चला दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed