देश के लाखों कर्मचारियों को सुविधा, EPFO, ESIC ने की अहम घोषणाएं, यह होगा फायदा

नई दिल्ली. देश भर के लाखों कर्मचारियों के लिए यह अच्‍छी खबर है। EPFO (कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन) और ESIC (कर्मचारी राज्‍य बीमा निगम) ने कर्मचारियों के हित में कुछ नई घोषणाएं की हैं। इनका बड़ी संख्‍या में नौकरीपेशा लोगों को फायदा होगा। इन घोषणाओं में मुख्‍य रूप से कर्मचारी अंशदान में कटौती है, जिससे अनेक लोग लाभान्वित होंगे। यहां विस्‍तार से जानिये इन फैसलों का खाताधारकों पर क्‍या असर पड़ेगा।

– ESIC ने नियोक्ताओं के लिए मासिक ESI योगदान की दर 4.75% से घटाकर 3.25% और कर्मचारियों के लिए 1.75% से 0.75 कर दी है।

– कर्मचारियों को एक और सौगात मिली है। फरवरी, 2020 और मार्च, 2020 के लिए ESI का कांट्रीब्‍यूशन अब क्रमशः 15 मार्च, 2020 और 15 अप्रैल, 2020 के बजाय 15 अप्रैल, 2020 और 15 मई 2020 तक भरा जा सकेगा।

– ESIC ने बताया है कि “चिन्ता से मुक्ति” “Chinta Se Mukti“ mobile app मोबाइल ऐप भारत सरकार के UMANG प्लेटफॉर्म पर अब उपलब्ध है। भारत की। इस ऐप के साथ, बीमित व्यक्ति अपने कांट्रीब्‍यूश हिस्‍ट्री, पर्सनल प्रोफ़ाइल, दावे की स्थिति और लाभ के लिए उनके अधिकार को भी देख सकते हैं।

– ईपीएफओ के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों में हर महीने की 10 तारीख को (छुट्टी के मामले में अगला कार्य दिवस) “निधि एप निकहत” कार्यक्रम आयोजित करता है। सभी ग्राहक अपने संशय, सवालों सहित अपनी प्रतिक्रिया प्रस्‍तुत करने के लिए हर महीने NIDHI AAPKE NIKAT में शामिल हों।

– ईपीएस पेंशनर्स जिन्होंने अपना #DigitalLifeCert सर्टिफिकेट अभी तक जमा नहीं किया है, वे अब वर्ष के किसी भी समय ऑनलाइन जीवन प्रमाण पत्र प्रस्तुत कर सकते हैं। #LifeCertificate अपनी सबमिशन की तारीख से 1 साल के लिए वैध रहेगा।

– अब नई सार्वजनिक और निजी लिमिटेड कंपनियों और एक व्यक्ति कंपनी को EPFO & ESIC on MCA portal एमसीए पोर्टल पर ईपीएफओ और ईएसआईसी के लिए रजिस्‍ट्रेशन की संख्या मिल जाएगी। यह नियम 15.02.2020 से हो चुका है।

– EPFO ने ग्राहकों से यह भी कहा है कि ईपीएफओ आपसे कभी भी अपनी डिटेल शेयर करने या बैंक में कोई राशि जमा करने के लिए नहीं कहता है। फोन पर अपनी व्यक्तिगत जानकारी का खुलासा न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed