प्रदेश का पहला सेनेटाइजर रूम चंबल में, कलेक्टर ने खुद किया सेनेटाइज

ग्वालियर। देश में 21 दिन के लॉकडाउन का आज 12वां दिन है। जैसे-जैसे इसके दिन कम हो रहे हैं, वैसे वैसे कोरोनावायरस के पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। भोपाल, इंदौर और मुरैना में अचानक मरीज बढऩे से लोग चिंतित हैं। वहीं ग्वालियर चंबल संभाग में अब मरीजों की संख्या 16 हो गई है। इसके साथ ही एक कोरोना संदिग्ध की मौत का मामला भी आज सामने आ गया है। इसके बाद प्रशासन में खलबली मच गई है। इसी को देखते हुए सर्वाधिक संवेदनशील मुरैना शहर में रविवार को सेनीटाइजर रूम तैयार किया गया।

 

जिला कलेक्टर प्रियंका दास,आयुक्त नगर निगम अमरसत्य गुप्ता, एमआईसी सदस्य संजय शर्मा सहित कई लोगों ने रविवार को खुद को बाहर से आने के बाद यहां सेनेटाइज किया। कलेक्टर प्रियंका दास व आयुक्त नगर निगम ने अमरसत्य गुप्ता ने कोरोना पॉजीटिव वार्ड 47 में भ्रमण करने के बाद यहां स्वयं को सेनेटाइज किया। मुरैना में प्रदेश का पहला सेनेटाइजर रूम बताया जा रहा है। साथ ही नगर निगम की फायर ब्रिगेड से वार्डों में सेनीटाइजेशन कराया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि पूरे शहर का सेनीटाइजेशन कार्य जल्द पूरा करने के लिए सोमवार से दो और वाहनों का इंतजाम किया जा रहा है।

एकसाथ इतने केस सामने आते ही प्रशासन में खलबली
मुरैना में 17 मार्च को आने के बाद भी दंपती सार्वजनिक आयोजनों में शामिल होते रहें और स्थानीय चिकित्सकों से वही अपनी पत्नी का उपचार भी कराता रहा,लेकिन प्रशासन व स्वास्थ विभाग टीम को किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं दी कि वह दुबई से लौटा है। परिणाम यह हुआ कि उसके घर-परिवार और रिश्तेदारी के 12 लोग कोरोना पॉजीटिव हो गए। एक साथ इतनी संख्या में मरीज सामने आने के बाद जिला और स्वास्थ्य प्रशासन ने एहतियाती कदमों को और प्रभावी करने के लिए सख्त कदम उठाए और हाइवे, जौरा रोड, महाराजपुर और नहर रोड से मिलने वाले कोरोना पॉजीटिव वार्ड 47 और उससे लगने वाले वार्ड 45 व 46 को पूरी तरह आइसोलेट कर दिया गया है। एबी रोड से न्यू हाउसिंग बोर्ड में प्रवेश करने वाले मुख्य मार्ग को बेरीकेडिंग करके पूरी तरह बंद कर दिया गया है। किसी को भी यहां आने-जाने की इजाजत नहीं है। ऐसा ही जौरा रोड से महाराजपुर रोड पर प्रवेश करने वाले द्वार और जौरा रोड को बंद कर दिया गया है।

 

ड्रोन से निगरानी
कोरोना पॉजीटिव वार्ड में लोग घरों से बाहर न आएं और आइसोलशन के नियमों का पूरा पालन करें, इसके लिए ड्रोन कैमरे से निगरानी कराई जा रही है। अलग-अलग समय पर ड्रोन कैमरे से तस्वीरें ली जा रही हैं। शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक डॉ. असित यादव ने पुलिस व्यवस्था का जायजा लिया और ड्रोन कैमरे से वार्ड की तस्वीर के आधार पर भी अध्ययन किया।

 

परिजन रिश्तेदारों की हुई पहचान
कोरोना पॉजिटिव बरेठा दंपती के 79 और परिजनों व रिश्तेदारों की पहचान हुई है। यह सभी लोग जौरा विकासखंड के एक दर्जन से अधिक गांवों के रहने वाले हैं। स्वास्थ्य प्रशासन ने उनकी पहचान कर ली है। इसके पहले पॉजिटिव दंपती के अलावा 33 लोगों की पहचान की जा चुकी हैं। इनमें से 10 और पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। 4 चिकित्सकों सहित 15 लोगों के सैंपल और लेकर जांच के भेजे गए हैं। वहीं कोरोना पॉजिटिव दंपती और उसके रिश्तेदारों के संपर्क में आने वाले और लोगों की तलाश की जा रही है। क्वाटंटाइन किए गए वार्ड में शनिवार को सेनिटाइजेशन किया गया। वहीं वार्डों में घरों में क्वाण्र्टाइन किए गए लोगों की निगरानी बढ़ा दी गई है। साथ ही लोगों से घरों में ही रहने की अपील की है और घरों से बाहर निकलने पर कार्रवाई की भी बात कही गई है।

घर घर जाकर किया जा रहा है सर्वे
प्रशासन ने प्रत्येक घर और बेरीकेडिंग को भी सेनीटाइज किया है। साथ ही लोगों से अपने घरों में ही कैद होन की अपील की है। चिकित्सकों के अनुसार फिलहाल किसी मरीज की स्थिति गंभीर नहीं है और 33 लोगों को क्वारंटाइन संस्था में मॉनीटरिंग में रखा गया है। अंबाह में भी विदेश आकर जानकारी छिपाने वाले लोगों का सर्वे कराया गया है। देश के अन्य हिस्सों से आए लोगों की जानकारी भी ली गई है। साथ ही प्रशासन की ओर से मुरैना जिले में कफ्र्यू भी लगा दिया है।

 

और भी लोग हो सकते हैं जिले में
विदेश या ज्यादा संक्रमित क्षेत्रों से आए और भी लोग जिले में हो सकते हैं। इनकी पहचान करना प्रशासन के लिए चुनौती है। बताया गया है कि अंबाह में शुक्रवार को सर्वे के दौरान एक विदेश से आए व्यक्ति की जानकारी मिली है। हालांकि उसे 14 दिन का समय हो गया है, कोई लक्षण नहीं दिखा है। फिर भी लोगों का मानना है कि प्रशासन को सख्त संदेश देना चाहिए कि विदेश आकर जिले में पहुंचे लोगों को अपने बारे में जानकारी प्रशासन को देनी चाहिए। जानकारी छिपाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed