देश में कोरोना के 4067 मरीज, तबलीगी जमात के 1445 लोग शामिल, अब तक 109 लोगों की मौत: स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्लीदेशभर में कोरोना वायरस ने कहर बरपाया हुआ है. इसके मरीजों की संख्या बढ़कर 4067 हो गई है जिसमें 1445 लोग तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं. कोरोना के 693 नए केस पॉजिटिव पाए गए हैं.

इस महामारी की वजह से अब तक 109 लोगों की मौत हो चुकी है. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने ये जानकारी दी है.

लव अग्रवाल ने बताया कि संदिग्ध मामलों को लेकर गाइडलाइन जारी की गई हैं. राज्यों को आज 3000 करोड़ रुपए की अतिरिक्त मदद जारी की गई है. अब तक आए कुल केसों का विश्लेषण करें तो 24% मामले महिलाओं में हुए हैं. वहीं अभी तक 291 लोग कोरोना से ठीक हुए हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि काउंसिल ऑफ मिनिस्टर्स की बैठक में प्लान ऑफ एक्शन पर चर्चा हुई. लॉकडाउन के दौरान जनता के लिए वीडियो अपलोड किए गए हैं. लोगों से फेस और माउथ कवर करने के लिए कहा जा चुका है. जिसमें प्रिकॉशन लेने की बात कही गई है. लगभग 25500 से ज्यादा लोगों को पहचान कर उन्हें क्वारंटाइन कर दिया गया है. 1750 विदेशी TJ वर्कर्स को ब्लैकलिस्ट कर दिया गया है.

ये भी देखें– 

इसके अलावा गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने कहा है कि राज्य में लॉकडाउन का ठीक तरह से पालन हो रहा है. उन्होंने कहा कि गृह सचिव ने आज राज्य सरकारों को पत्र लिखा है. जमात के संपर्क में आए 25500 से ज्यादा लोगों को क्वाइंटाइन किया गया . 5 लाख टेस्टिंग किट का ऑर्डर दिया गया है. जब किसी जगह से ज्यादा मामले आते हैं तो हम 2 अलग-अलग रणनीति पर काम करते हैं. हर जिले में कोविड से लड़ने के लिए एक सेंटर बनाए जाएं, ये निर्देश दिया जा चुका हैं.

कोरोना संक्रमण को लेकर केंद्र सरकार के मंत्रालयों की ज्वाइंट प्रेस कांफ्रेंस में कहा गया है कि देश में अभी भी संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, हालांकि वायरस के संक्रमण को काबू में करने के लिए हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से प्रेस कॉन्फ्रेंस में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में संक्रमण के जो मामले सामने आ रहे हैं उनसे 47 फीसदी संक्रमण के मामले 40 साल से कम उम्र के लोगों में सामने आ रहे हैं.

कोरोना संक्रमण से जिन लोगों की मौत हुई है उनके आंकड़ों पर बात करें तो अभी तक 73 परसेंट संक्रमण के शिकार पुरुषों की मौत हुई है जबकि महिलाओं की मौत का आंकड़ा 27 फीसदी है.

वहीं अगर उम्र के अनुसार एनालिसिस करें तो संक्रमण के शिकार जिन लोगों की मौत हुई है उसमें 7 साल से ज्यादा उम्र वालों की संख्या 63 फीसदी है. वहीं 40 से 60 साल की उम्र के बीच 30 परसेंट लोगों की मौत हो रही है जबकि 40 साल से कम उम्र के लोगों की मौत का आंकड़ा 7 फीसदी है.

लव अग्रवाल ने बताया कि हर दिन हॉटस्पॉट की संख्या घटती बढ़ती रहती है. जहां-जहां हॉटस्पॉट हैं, वहां पर हम तेजी से कंट्रोल करने के लिए व्यवस्था करते हैं, जिसके बाद वह हॉटस्पॉट खत्म हो जाता है.

वहीं तबलीगी जमात से जुड़े मामलों का ब्यौरा देते हुए गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि अभी तक कुल 4067 मामलों में से 1445 संक्रमण के मामले तबलीगी जमात से जुड़े लोगों के हैं. कुल 2083 तबलीगी से जुड़े विदेशियों की पहचान की गई है जिसमें से 1750 विदेशी नागरिकों को जो कि तबलीगी से जुड़े हुए थे उनको ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया है. तबलीगी से जुड़े 10 लोगों की संक्रमण से अभी तक मौत हो चुकी है. जबकि 1450 लोग तबलीगी के संक्रमण के शिकार हैं.

देशभर में तबलीगी जमात के लोग जिन जिन राज्यों में गए हैं उनके संपर्क में जो लोग आए हैं उन सब की संख्या 25500 से ज्यादा है, उन सब को क्वॉरेंटाइन किया गया है और जो भी पॉजिटिव मामले सामने आ रहे हैं उनका इलाज किया जा रहा है.

स्वास्थ मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि हरियाणा के 5 गांव सील कर दिए गए हैं जिनमें ज्यादा मामले कोरोना वायरस के संक्रमण के सामने आए हैं और वहां पर सभी जरूरी कदम एहितियातन उठाए गए हैं.

वहीं राजस्थान के भीलवाड़ा में कोरोना संक्रमण के ज्यादा मामले आने पर जिस तरह से पूरे जिले को और अनटाइम्ड करके और जरूरी स्टेप्स उठाए गए क्या वह फार्मूला देश के तमाम जिलों में अपनाया जाएगा.. ज़ी न्यूज़ के इस सवाल पर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव अग्रवाल ने कहा है कि जब किसी जगह से ज्यादा मामले आते हैं तो हम अलग अलग रणनीति के तहत उस पर काम करते हैं. हमने अभी तक 2 तरह की रणनीति अपनाई हैं. जिस जिले में ज्यादा मामले आ रहे हैं वहां जिस तरह से भीलवाड़ा में किया है उसी तरह से दूसरे जिलों में भी करने को कहा गया है. जिससे पूरी तरह से संक्रमण के मामलों को फैलने से नियंत्रित किया जा सके.  हमने हर जिले में कोरोना से लड़ने के लिए एक सेंटर बनाया हुआ है और सभी तरह के निर्देश पहले ही जारी कर चुके हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed