भूपेंद्र सिंह, रामपाल सिंह व राजेंद्र शुक्ला के नाम पर सहमति बनी, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह ने प्रयास किया

 

भोपाल. मध्यप्रदेश में श्विराज मंत्रिमंडल के विस्तार की तैयारियां अंतिम दौर में पहुंच गई है। शपथ की तारीख भी नजदीक आ गई है। पार्टी नेताओं का मानना है कि 30 मई को मोदी सरकार के 1 वर्ष का कार्यकाल पूरा हो रहा है इसलिए 30 से 31 मई या फिर जून के पहले सप्ताह में शपथ की औपचारिकता पूरी की जाएगी।
तीनों पूर्व मंत्रियों की कैबिनेट में वापसी की संभावना बढ़ी
शपथ लेने वाले मंत्रियों की सूची को लेकर चल रही कश्मकश गुरूवार को भी जारी रही। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कैबिनेट में मंत्री रहे भूपेंद्र सिंह, रामपाल सिंह और राजेंद्र शुक्ला की वापसी के लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर ने भी प्रयास किए। शिवराज और नरेंद्र सिंह के संयुक्त प्रयासों से तीनों पूर्व मंत्रियों की कैबिनेट में वापसी की संभावना बढ़ गई है।

जानकारी के अनुसार जिन मंत्रियों के नाम पर पेच फंसा हुआ था वह लगभग सुलझ गया है। पार्टी नेताओं का कहना है कि प्रदेश नेतृत्व के साथ-साथ इन नेताओं के पक्ष में केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह ने भी मोर्चा संभाला। हाईकमान के सामने तर्क दिया गया कि शिवराज कैबिनेट में जिन सिंधिया मसर्थकों को मंत्री बनाया जा रहा है वे सभी कद्दावर नेता है। ऐसे हालात में नए चेहरों को ज्यादा संख्या में शामिल किया जाता है तो भाजपा के नए मंत्री कमजोर पड़ जाएंगे। कैबिनेट की बैठक में भी संतुलन बनाना मुश्किल होगा इसलिए कुछ अनुभवी मंत्रियों को सरकार में शामिल करना जरूरी है। वहीं पार्टी का कहना है कि इस पर सहमति बन जाने के आसार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *