अफीम की खेती-8 बीघा जमीन में लहलहा रही थी अफीम की फसल, अफीम की कीमत 3 करोड़ से अधिक और एक गिरफ्तार

ग्वालियर. शहर के बायपास के किनारे डोंगरपुर में 1.60 हेक्टर लगभग (8 बीघा) खेत में अफीम की फसल लहलहाती फसल को जिला प्रशासन ने पकड़ा है। अफीम की कीमत लगभग 3 करोड़ रूपये आंकी गयी है। अफीम की फसल को जिला प्रशासन की ओर से एसडीएम विनोद भार्गव, तहसीलदार कुलदीप दुबे, पटवारी शिवदयाल शर्मा, धर्मेन्द्र शर्मा आदि अपनी निगरानी में लेने के बाद अफीम की फसल तय होने के बाद नारकोटिक्स आयुक्त राजेश ढावरे को सूचना दी इसके बाद नारकोटिक्स विभाग की ओर रजनीश शर्मा अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंच कर फसल को जब्त करने के बाद एक युवक को भी गिरफ्तार कर लिया है। अभी जमीन के मालिक नहीं मिले है। आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही की जा रही है।
क्या है पूरा मामला
कलेक्टर को पिछले काफी समय से सूचना मिल रही थी कि शहर के सिरोल स्थित डोंगरपुर में बड़ेस्तर पर अफीम की खेती की जा रही है और इसके बाद टीम ने जानकारी जुटाई जब सूचना सही निकली तो शनिवार की दोपहर एसडीएम विनोद भार्गव, तहसीलदार कुलदीप दुबे के नेतृत्व में जिला प्रशासन ने पुलिस फोर्स को लेकर डोंगरपुर के खेतों दविश दी। डोंगरपुर में लगभग 8 बीघा जमीन पर अफीम की फसल लहलहा रही थी। अफीम की फसल देखकर जिला प्रशासन के अधिकारियों की आंखें फटी रह गयी। मामला एनडीपीएस एक्ट का होने पर तत्काल मामले की सूचना नारकोटिक्स विभाग को दी गयी। जिस पर वहां सीनियर इंस्पेक्टर रजनीश शर्मा के नेतृत्व में 7 सदस्यीय टीम डोंगरपुर स्थित खेत पर पहुंची। यहां फसल की रखवाली कर रहे पूरन कुशवाह को गिरफ्तार कर खेतों में खड़ी फसल को नष्ट कराया गया और साथ ही वह अफीम फसल को जब्त कर नष्ट कर दी। आरोपी को भी नारकोटिक्स विभाग की टीम अपने साथ ले गयी। मौके पर अफीम की फसल की कीमत लगभग 3 करोड़ रूपये से अधिक बताई गयी है।


कई राज्यों में सप्लाई होती थी अफीम
नारकोटिक्स विभाग के अधिकारियोंको शक है कि यहां अफीम की पैदावार कर रहे इसे अन्य राज्यों में सप्लाई किया जाता था। अब कहां सप्लाई किया जाता था यह पता नहीं चला है, पकड़े गये किसान पूरन कुशवाह कुछ अधिक नहीं बता पाया। नारकोटिक्स की टीम जमीन मालिकों पर कार्यवाही करने की तैयारी में हैं।
इन सर्वे नम्बरों पर हो रही थी अफीम की फसल
जिला प्रशासन की तरफ से तहसीलदार कुलदीप दुबे ने बताया कि जिस जमीन पर अफीम की फसल हो रही थी वह डोंगरपुर के सर्वे नम्बर 406, 407 और 408 हैं। सर्वे नम्बर 406 और 407 जानकी पत्नी दामोदार झंवर के नाम पर है, जबकि सर्वे नम्बर 408 तेजसिंह कुशवाह व व्यापारी सुनील के नाम पर हैं। अब इनको भी नारकोटिक्स की टीमें तलाशने जुट गयी है। इनमें झंवर शहर के बड़े व्यापारी है। सुनील भी व्यापार और बिल्डर होने के साथ -साथ पूर्व डीजी के साले बताये जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed